Saturday, December 17, 2016

बेटी............डॉ. ऋचा सत्यार्थी



प्यार भरा 
एक गीत है बेटी 
जीवन का 
संगीत है बेटी....

बेटी जैसे 
शीतल बयार 
बेटी जैसे 
रिमझिम फुहार 
जो महककाए 
घर का आंगन 
बेटी है 
वो खिली बहार 
एक सुहाना 
मौसम जैसे 
ऐसे मन का 
मीत है बेटी...

बेटी काजल 
बेटी कंगना 
बेटी मंदिर 
बेटी अंगना 
बेटी से 
संसार है अपना 
बेटी से ही 
हर इक सपना 
सात रंगों 
का इन्द्रधनुष 
जीवन भर की 
प्रीत है बेटी..

बेटी लक्ष्मी
बेटी सीता 
बेटी कुरान 
बेटी गीता 
बेटी है 
एक गौरव गाथा 
बेटी है तो 
सब जग जीता 
संस्कारों की 
डोर बंधी 
जैसे पावन 
रीत है बेटी....!

-डॉ. ऋचा सत्यार्थी
.......मधुरिमा से

3 comments:

  1. बेटी की तरह सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर शब्द रचना।
    वाह

    ReplyDelete
  3. दिनांक 18/12/2016 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंद... https://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
    आप भी इस प्रस्तुति में....
    सादर आमंत्रित हैं...

    ReplyDelete