Tuesday, September 29, 2015

कोई रंगीन सी उगती हुई कविता.... फाल्गुनी

रख दो 
इन कांपती हथेलियों पर 
कुछ गुलाबी अक्षर 
कुछ भीगी हुई नीली मात्राएं 
बादामी होता जीवन का व्याकरण, 

चाहती हूं कि 
उग ही आए कोई कविता
अंकुरित हो जाए कोई भाव, 
प्रस्फुटित हो जाए कोई विचार 
फूटने लगे ललछौंही कोंपलें ...
मेरी हथेली की ऊर्वरा शक्ति

सिर्फ जानते हो तुम 
और तुम ही दे सकते हो 
कोई रंगीन सी उगती हुई कविता 
इस 'रंगहीन' वक्त में.... 

-स्मृति

5 comments:


  1. आप की लिखी ये रचना....
    30/09/2015 को लिंक की जाएगी...
    http://www.halchalwith5links.blogspot.com पर....
    आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित हैं...


    ReplyDelete
  2. Very Nice!

    Please visit my blog

    http://jivanmantra4u.blogspot.in

    ReplyDelete
  3. publish ebook with onlinegatha, get 85% Huge royalty,send Abstract today
    SELF PUBLISHING| Buy Online ISBN

    ReplyDelete
  4. बेह्तरीन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete